गोरखपुर में दलित के घर सीएम योगी ने खाई खिचड़ी, कही ये बात, पढ़ें

 यूपी सीएम येगी गोरखपुर में दो दिन के दौरे पर है। वे आज दोपहर 12 बजे गोरखपुर में दलित परिवार के साथ खाना हुए। तय कार्यक्रम के मुताबिक, योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को झूमिया गेट स्थित गोरखपुर फर्टिलाइजर पहुंचेंगे। यहां वे अमृतलाल भारती के घर पहुंचेंगे और भोजन करेंगे।

योगी आदित्यनाथ ने सहभोज के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा, ”मैं मकर संक्रांति के मौके पर अपने इस अनुसूचित जाति के कार्यकर्ता अमृत लाल भारती और उनके परिजनों को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने मुझे खिचड़ी सहभोज पर अपने घर में आमंत्रित किया।

वे यहां सामाजिक मुद्दों पर काम करते रहे हैं। आज उन्होंने खिचड़ी सहभोज के कार्यक्रम के माध्यम से सामाजिक समता का और पीएम मोदी के ‘सबका साथ-सबका विकास’ मंत्र को अंगीकार करते हुए विकास, सुशान और राष्ट्रवाद के अभियान को आगे बढ़ाने के लिए समता भोज किया। बाबा साहबे के उस संदेश को जन-जन तक पहुंचाने के अभियान के तहत यह कार्यक्रम हुआ है।”

हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब योगी आदित्यनाथ ने किसी दलित के घर खाना खाया हो। लेकिन चुनाव से ठीक पहले इस आयोजन के सियासी मायने हैं। बीजेपी प्रतीकों की राजनीतिक का महत्व जानती है और इनके जरिए अपने पक्ष में माहौल बनाने में माहिर मानी जाती है।

कहा जा रहा है कि बीजेपी ने चुनाव से ठीक पहले दलित वोटर्स को लुभाने के लिए इस कार्यक्रम का आयोजन किया है। बीजेपी के इस दांव को समाजवादी पार्टी की ओर से ओबीसी वोट में की गई सेंधमारी की काट के तौर पर भी देखा जा रहा है।