सीएम योगी आदित्यनाथ पर बिहार में याचिका दायर, जानें क्या है अब्बाजान विवाद

बिहार: मुजफ्फरपुर जिले के अहियापुर निवासी तमन्ना हाशमी ने उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ पर एक समुदाय के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने का आरोप लगाते हुए सोमवार को सीजेएम कोर्ट में परिवाद दर्ज कराया है।

कोर्ट ने मामले पर सुनवाई के लिए 21 सितंबर की तिथि निर्धारित किया है। तमन्ना हासमी का आरोप है कि बयान से समुदाय के लोग अपमानित महसूस कर रहे हैं। याचिका में यह आरोप लगाया है कि उत्तर प्रदेश की पूर्ववर्ती सरकारों की तुलना करते हुए सीएम योगी ने एक जाति विशेष को टारगेट करते हुए कहा कि पूर्व की सरकार में अब्बा जान कहने वाले लोग गरीबों का राशन हजम कर लेते थे।

 लेकिन अब उनके राज्य में यह बंद हो गया है। इसी को लेकर तमन्ना हाशमी ने परिवाद दायर किया है। उनका कहना है कि सूबे के एक बड़े संवैधानिक पद पर बैठे सीएम का यह बयान देश को तोड़ने वाला है।

दरअसल, याचिका में यह आरोप लगाया है कि उत्तर प्रदेश की पूर्ववर्ती सरकारों की तुलना करते हुए सीएम योगी ने एक जाति विशेष को टारगेट करते हुए कहा कि पूर्व की सरकार में अब्बा जान कहने वाले लोग गरीबों का राशन हजम कर लेते थे, लेकिन अब उनके राज्य में यह बंद हो गया है. इसी को लेकर तमन्ना हाशमी ने परिवाद दायर किया है। उनका कहना है कि सूबे के एक बड़े संवैधानिक पद पर बैठे सीएम का यह बयान देश को तोड़ने वाला है।