CM Yogi ने कोरोना को लेकर नए दिशा-निर्देश किए जारी, बाहर जानें से पहले पढ़ लें, वरना…

रिपोर्ट- पल्लवी त्रिपाठी

उत्तर प्रदेश : कोरोना महामारी का संकट लगातार गहराता ही जा रहा है । कोरोना मामलों में भी इजाफा देखने को मिल रहा है । ऐसे में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने रविवार को प्रदेश में लॉकडाउन का ऐलान भी कर दिया है । साथ ही मास्क को लेकर नियम कड़े कर दिए है । इस बीच सीएम योगी ने कोविड-19 प्रबंधन में तत्पर टीम-11 को नए दिशा-निर्देश जारी क‍िए हैं ।

मुख्यमंत्री ने कहा- रेमडेस‍िविर जैसी जीवनरक्षक दवाओं की कालाबाज़ारी करना बड़ा अपराध है । इसमें शामिल होने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट अथवा रासुका के अंतर्गत कठोरतम कार्रवाई की जाएगी ।

वहीं, सीएम योगी का यह भी कहना है क‍ि जीवनरक्षक दवाओं की कोई कमी नहीं है । रेमडेसिविर सहित किसी भी प्रकार के दवाई की कोई किल्लत नहीं है । सीएम ने कहा कि सभी जिलों में इनकी उपलब्धता सुनिश्चित रखी जाए । इस कार्य में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी ।

उन्होंने बताया- रेमडेस‍िविर के 20,000 से 30,000 बॉयल आज यानी सोमवार को ही प्रदेश को प्राप्त हो जाएंगे । आने वाले तीन दिनों के भीतर रेमडेस‍िविर की नई खेप भी प्राप्त हो रही है । इनका वितरण पारदर्शितापूर्ण ढंग से किया है ।

सीएम की समीक्षा बैठक में जारी किए गए नए निर्देश-

1. रेमेडेसिवर आदि दवाओं की कालाबाज़ारी करने वालों पर गैंगस्टर, एनएसए लगाया जाए ।

2- रेमेडेसिवर सहित अन्य दवाओं की सभी जिलों को उपलब्धता सुनिश्चित की जाए ।

3- प्रदेश में ऑक्सीजन के उत्पादन करने वाले सभी औद्योगिक इकाइयों से सम्पर्क साधकर समन्वय बनाकर ऑक्सीजन की आपूर्ति करायें, MSME मंत्री ,ACS MSME इस मामले की मॉनिटरिंग करें ।

4- DRDO की सहायता से अगले 2-3 दिनों में 220 सिलिंडर वाला ऑक्सीजन प्लांट स्थापित हो जायेगा ।

5- चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुनिश्चित करें कि बलरामपुर हॉस्पिटल में क्रियाशील 225 बेड को बढ़ाकर 700 किया जाए, ।

6- 100 बेड वाले अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जायें, विधायक निधि का इस्तेमाल करें ।

7- मास्क के अनिवार्य उपयोग को सख्ती से लागू कराया जाए, दूसरी बार पकड़े गए लोगों से 10000 रुपए जुर्माना लिया जाए, उनकी फोटो सार्वजनिक हो ।

8- प्रदेश में कोविड टेस्ट को विस्तार दिया जाए ।

9- लखनऊ, बनारस,प्रयागराज, जैसे अतिप्रभावित जिलों में कोविड मरीजों के लिए बेड्स की मौजूदा संख्या को दोगना किया जाए ।

10- कोविड टेस्टिंग के लिये इच्छुक नई लैब्स को शासन से सहयोग किया जाए, क़्वालिटी में कोई समझौता न किया जाए ।